Lic Child Plan, LIC Kanyadaan Policy

LIC kanyadaan policy and sukanya samridhhi yojana me difference

LIC kanyadaan policy and sukanya samridhhi yojana me difference

सुकन्या समृद्धि योजना Vs LIC कन्यादान पॉलिसी जानिए दोनों के क्या फायदे है और कहा आपको  कम प्रीमियम पर किसमें मिलेगा ज्यादा रिटर्न मिलेगा

यदि आप  अपनी बेटियों  के भविष्य के लिए निवेश के बारे में सोच  तो आपको मार्किट में दो  पालिसी की चर्चा सबसे जायदा होती है 1 LIC kanyadan policy कन्यादान पॉलिसी और दूसरा जो निवेश है वो सुकन्या समृद्धि योजाना है. इन दोनों पालिसी के अपने अपने फायदे है दोनों ही सरकार की मदद से चल रही है।  ये दोनों पालिसी आपके बच्चे के लिए एक सुरक्षित निवेश है मतलब ें प्लान्स  में आपके पैसे डूबने का कोई खतरा नहीं है और दोनों का काम आपके बच्चे के भविष्य की जरूरतों के लिए फण्ड जमा करना है
तो इस तरह दोनों के बारे में  यह जानना ज्यादा जरूरी है कि किसमें निवेश करें आज हम इस पोस्ट में यह जानने की कोशिश करेंगे कि किसमें कितना प्रीमियम देकर कितना रिटर्न पाया जाता है.
ये दोनों प्लान्स हमारी  बेटियों के लिए है इसके अंतर्गत आप  बेटियों की  पढ़ाई या शादी की प्लानिंग करके पहले से निवेश किया जा सकता है.  आप ें पालिसी में एक छोटे अमाउंट जमा करके  मैच्योरिटी पर अच्छी रकम पा सकते है.
एलआईसी की कन्यादान पॉलिसी (LIC kanyadaan policy) का असली नाम  जीवन लक्ष्य प्लान jeevan लक्ष्य प्लान है इसके फीचर्स के कारण   ही इस पालिसी को कन्यादान पालिसी ( lic kanyadan policy) के तौर पर पेश किया जाता है सुकन्या समृद्धि योजना (sukanya samridhhi yojana) को आप अपनी  बेटी के नाम पर ले सकते है है, वही कन्यादान पॉलिसी बेटी के लिए माता या पिता के नाम पर खोली जाती है.
LIC kanyadaan policy and sukanya samridhhi yojana me difference दोनों पॉलिसी में अंतर पहला अंतर
sukanya samridhhi yojana सुकन्या समृद्धि  को आप 0 से 10 साल की बच्ची के लिए ले सकते है।  (LIC kanyadaan policy) जबकि LIC की कन्यादान पालिसी को माता या पिता के नाम से ली जाती है। LIC kanyadaan policy में उम्र सीमा 18 साल से 50 साल रखी गई है. sukanya samridhhi yojana  में आपके बच्चे के उम्र 1 साल से ज्यादा होनी चाहिए जिसके लिए खाता खोल रहे हैं.कन्यादान पालिसी केवल बेटियों के लिए है ऐसा नहीं है। LIC kanyadaan policy का उसे आप अपने बेटे के लिए भी ले सकते है  LIC kanyadaan policy  कन्यादान पॉलिसी एनआरआई भी ले सकते हैं जबकि सुकन्या समृद्धि एनआरआई के लिए नहीं है. दोनों पॉलिसी पर टैक्स का लाभ ले सकते हैं. मैच्योरिटी पूरी तरह से टैक्स फ्री होता है.
दूसरा अंतर sukanya samridhhi yojana एक योजना है जो की सरकार के द्वारा चलाई जा रही है इस योजना में आपको इंट्रेस्ट(ब्याज ) मिलता है। जबकि LIC kanyadaan policy एक इन्सुरेंस पालिसी है जिसमे की आपको इन्सुरेंस मिलता है आप के न रहने पर आपकी फॅमिली को प्रीमियम नहीं भरना पड़ता है। sukanya samridhhi yojana में आप जितना जमा करेंगे उस पर आपको ाचा इंट्रेस्ट मिलेगा
प्रीमियम और उम्र की जानकारी सुकन्या समृद्धि योजना को आप  21 साल तक के लिए ले सकते हैं और 18 साल तक पैसे जमा करने होते हैं. और  कन्यादान पॉलिसी की मैच्योरिटी को 25 साल तक के लिए ले सकते हैं. इस  पॉलिसी  10 से 22 साल तक प्रीमियम भर सकते हैं. प्रीमियम टर्म से तीन साल कम तक पैसा भरना होता है. सुकन्या समृद्धि में अगर बच्ची की मौत हो जाए तो माता-पिता को पूरा पैसा मिल जाता है. कन्यादान पॉलिसी में जिसने बच्चे के नाम पर पॉलिसी ली है, अगर उनकी मौत हो जाती है तो पॉलिसी का प्रीमियम माफ हो जाता है. मौत अगर प्राकृतिक है तो 5 लाख और दुर्घटना से होती है तो 10 लाख रुपये मिलते हैं. इसके साथ ही बोनस के रूप में भी राशि मिलती है. अंत में मैच्योरिटी का पूरा पैसा भी उस बच्चे को मिलेगा जिसके नाम से कन्यादान पॉलिसी है.
दोनों  पालिसी में कौन सी पालिसी अछि है सुकन्या समृद्धि की मैच्योरिटी को देखा जाये तो आपको केवल ब्याज जोड़ कर दिया जाएगा LIC kanyadaan policy  एक इन्सुरेंस को कवर करती है जिसमे आपको मैच्योरिटी प्लस बोनस मिलेगा.कन्यादान पॉलिसी के तहत अगर खाताधारक पूरी पॉलिसी तक जीवित रहता है तो  भी आपको MATURITY मिलेगी सुकन्या में कभी भी पैसा जमा करा सकते हैं जबकि कन्यादान पॉलिसी में हर महीने, तीने महीने, छह महीने या साल भर पर पैसे जमा कर सकते है यह फायदा सुकन्या समृद्धि के साथ नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Call Now Button